Saturday, September 3, 2011

भ्रष्टाचार मिटाने के लिए ईमान चाहिए और अल्लाह के हुक्म की फ़रमांबरदारी

इंसान अपने डर और लालच को जीतता आया है ईश्वर अल्लाह पर ईमान की बदौलत। आज यह ताक़त कम इंसानों के पास है और ज़्यादातर लोग इससे ख़ाली हैं।
कौन आज ईश्वर को मानता है ?
और कौन ईश्वर की मानता है ?
कौन कर्मफल में विश्वास रखता है ?
जब न तो विश्वास है और न ही वह किसी अनुशासन को मानता है तो फिर एक अन्ना ही कैसे मिटा सकता है देश से भ्रष्टाचार ?
भ्रष्टाचार मिटाने के लिए ईमान चाहिए और अल्लाह के हुक्म की फ़रमांबरदारी।
जिसे हमारी बात बुरी लगे, वह सही तरीक़ा हमें बता दे।

जय हिन्द !
वंदे ईश्वरम् !!

2 comments:

  1. अधकचरों के मकड़जाल और अधार्मिक सोच की अनंत परतों के कारण,आदमी लगातार ढीठ होता गया है। आत्म-स्मरण ही एकमात्र उपाय है।

    ReplyDelete
  2. करने के लिए अपने स्वयं के biznys खोलना चाहते हैं?

    जो एक निश्चित मासिक वेतन प्राप्त करना चाहते हैं और कोई पूंजी के साथ, सभी के लिए एक नया अवसर!
    9 / अप्रैल / रात Mvic Anthezw रिकॉर्डिंग समय 2012 का मौका कम करने की संभावना 100% मुक्त है और 100% गारंटी ...
    http://myurl.cz/ternity: पंजीकरण के लिए लिंक


    रजिस्टर में अपने सभी दोस्तों को आमंत्रित करें!
    शुरुआत के लिए, आप अपने ईमेल पते की पुष्टि इससे पहले कि आप अपने खाते का उपयोग कर सकते हैं चाहिए. कृपया, अगर आप 24 घंटे के भीतर आपके इनबॉक्स में एक सत्यापन ईमेल से पुष्टि प्राप्त नहीं है, अपने स्पैम फ़ोल्डर की जाँच करें. यहाँ क्लिक करें: http://myurl.cz/ternity और पुनः पंजीकरण

    ReplyDelete